नई दिल्‍ली: संसद की एक समिति के सदस्यों ने 2020 में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के ट्विटर एकाउंट पर कुछ समय के लिए रोक लगाने के साथ माइक्रोब्लॉगिंग साइट द्वारा हिंदुस्तान का गलत नक्शा दिखाने के मामले को गुरुवार को उठाया। सूत्रों ने इस बारे में बताया। सूचना प्रौद्योगिकी पर संसद की स्थायी समिति ने नागरिकों के अधिकारों की रक्षा, सोशल मीडिया का दुरुपयोग रोकने और डिजिटल जगत में स्त्रियों की सुरक्षा को लेकर गुरुवार को फेसबुक, ट्विटर और इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के प्रतिनिधियों के साथ भिन्न-भिन्न बैठकें कीं।

ट्विटर के प्रतिनिधियों के साथ वार्ता में कुछ सदस्यों ने पिछले वर्ष शाह के एकाउंट पर कुछ समय के लिए रोक लगाने के मामले को उठाया । मीटिंग के बाद सूत्रों ने यह जानकारी देते हुए बताया कि इनमें अधिकांश बीजेपी के मेम्बर थे । बीजेपी के कुछ सदस्यों ने तथ्यों की नज़र करने के लिए ट्विटर की प्रणाली पर भी प्रश्न उठाए और आश्चर्य जताया कि किसी देश के गृह मंत्री के एकाउंट पर कैसे रोक लगा दी गई ।

ट्विटर ने उस समय बोला था कि ‘तकनीकी गड़बड़ी’ के कारण शाह के एकाउंट पर कुछ समय के लिए रोक लगी थी और तुरंत इसमें सुधार कर लिया गया । एक मेम्बर ने बताया कि कमेटी के सदस्यों ने भारतीय नक्शा का गलत चित्रण करने का भी मामला उठाया ।

वाट्सऐप की प्रस्तावित नयी नीति को लेकर जताई चिंता
संसद की एक समिति के सदस्यों ने वाट्सऐप की निजता से जुड़ी नीति में प्रस्तावित बदलावों को लेकर चिंता प्रकट की । सूत्रों ने यह जानकारी दी है । सूचना प्रौद्योगिकी से संबंधित स्थायी समिति के समक्ष पेश होने वाले वाट्सऐप के प्रतिनिधियों ने बोला कि प्रस्तावित बदलावों का मकसद और अधिक पारदर्शिता लाना है ।

एक मेम्बर के मुताबिक, समिति के कुछ सदस्यों ने बोला कि कंपनी का इस मामले पर इस प्रश्न का उत्तर देने में रुख अस्पष्ट है कि वह ऐसे परिवर्तन कैसे ला सकती है जो भारतीय यूसर्ज के लिए अनुकूल नहीं हैं । समिति ने फेसबुक, ट्विटर और इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के प्रतिनिधियों के साथ अलग से बात की ।

बैठक के बाद वाट्सऐप के एक प्रतिनिधि ने एक बयान में कहा, ”हम संसदीय समिति का आभार प्रकट करना चाहते हैं कि उसने हमें अपने समक्ष मौजूद होने और विचार रखने का मौका दिया । हम भविष्य में भी सम्मानीय समिति से योगदान करने को आशान्वित हैं । ”

वाट्सऐप ने हाल ही में उपयोगकर्ताओं को ‘इन-ऐप’ अधिसूचना के जरिये इन बदलावों की सूचना दी । वाट्सऐप ने बोला कि उसके मंच का इस्तेमाल जारी रखने के लिए प्रयोगकर्ताओं को नयी शर्तों तथा नीति पर आठ फरवरी तक सहमति देनी होगी ।