कलेक्टर ने डीएमएफ के कार्याें की समीक्षा ली बैठक…. अधिकारियों को व्यक्तिमूलक कार्याें को प्राथमिकता से करने के दिए निर्देेश

0
13

कृषि, स्वास्थ्य, शिक्षा, उद्यान, क्रेडा, मत्स्य एवं अन्य विभागों को कार्ययोजना बनाकर प्रस्तुत करने के दिए निर्देश…… डीएमएफ राशि का 80 प्रतिशत् उपयोग व्यक्तिमूलक कार्याें के लिए किया जाना है 20 प्रतिशत् राशि का उपयोग निर्माण कार्याें के लिए किया जाना है

जशपुरनगर 04 जून 2020/कलेक्टर महादेव कावरे ने आज कलेक्टर सभाकक्ष में जिला स्तर के खनिज न्यास निधि समिति की समीक्षा बैठक लेकर स्वीकृत कार्याें की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि डीएमएफ के राशि का उपयोग जिले के प्राभावित क्षेत्रों में प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से किया जाना है। डीएमएफ राशि का 80 प्रतिशत् उपयोग व्यक्ति मूलक कार्याें के लिए किया जाना है और 20 प्रतिशत् राशि का उपयोग निर्माण के लिए किया जाएगा। कलेक्टर ने कृषि, स्वास्थ्य, शिक्षा, उद्यान, क्रेडा, मत्स्य विभाग एवं अन्य विभाग के कार्याें की भी जानकारी ली और अधिकारियों को अपने विभाग से संबंधित डीएमएफ मद के अंतर्गत कार्ययोजना बनाकर जानकारी प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। उन्होंनें कहा कि शासन की मंशा है कि खनिज न्यास निधि की राशि का उपयोग व्यक्तिमूलक कार्याें में अधिक खर्च करें ताकि हितग्राहियों को इसका प्रत्यक्ष लाभ मिल सकें। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक श्री शंकरलाल बघेल, डीएफओ श्री कृष्ण जाधव, जिला पंचायत के सीईओ श्री के.एस.मण्डावी, डिप्टी कलेक्टर श्री चेतन साहू, सुश्री आकांक्षा त्रिपाठी, खनिज विभाग के अधिकारी, जिला शिक्षा अधिकारी श्री.एन.कुजूर, सहायक आयुक्त आदिवासी श्री एस.के.वाहने, कृषि अधिकारी एम.आर.भगत, मत्स्य अधिकारी डी.के. इजारदार, क्रेडा अधिकारी श्री संदीप कुमार बंजारे, सीएमएचओ श्री पी.सुथार, डीपीएम, गनपत नायक, आईएस श्री पैंकरा एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
कलेक्टर ने व्यक्तिमूलक कार्य में ई-रिक्शा किसानों को बाड़ी विकास से अधिक से अधिक जोड़ना, मत्स्य विभाग के अंतर्गत मत्स्य कृषकों को उनके तालाबों में मछली पालनके लिए प्रोत्साहित करना साथ ही क्रेडा विभाग के द्वारा किसानों के खेतों में सौर-सुजला योजना से लाभांवित करना भी शामिल है। उन्होंने कहा कि आदिवासी क्षेत्रों के दूरस्थ अंचल में निवास करने वाले पहाड़ी कोरवा, बिरहोर परिवार को भी डीएमएफ की राशि से लाभांवित किया जाना है। कलेक्टर ने शिक्षा अधिकारी से भी कार्याें के संबंध में जानकारी ली। जिला शिक्षा अधिकारी ने बताया कि जिले में यूनिसेफ के माध्यम से दुलदुला विकासखंड के 109 प्राथमिक एवं माध्यमिक शालाओं में रंग-रोगन के साथ लाईब्रेरी की स्थापना, बच्चों के लिए खेल सुविधा, लाईब्रेरी में लगभग 300 किताबों की सुविधा के साथ शिक्षा में नवाचार का भी कार्य किया जा रहा है और बच्चों को नवाचार के माध्यम से शिक्षा पद्धति से जोड़ा जा रहा है।
 कलेक्टर ने मत्स्य विभाग के अधिकारी को व्यक्तिमूलक कार्योें में किसानों को जोड़कर मत्स्य पालन के साथ अन्य कार्यों को भी प्राथमिकता देने के निर्देश दिए। साथ ही अपने विभग से संबंधित कार्य योजना बनाने के लिए भी कहा गया है। कलेक्टर ने कृषि अधिकारी को मिनी राईस मिल के लिए हितग्राहियों का चिन्हांकन करके जानकारी उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। साथ ही राह-वन गमन पथ के लिए सर्वे का कार्य करके कार्ययोजना बनाने के लिए भी कहा गया है। उन्होंने कहा कि अधिकारी अपने विभाग संबंधित डीएमएफ मद के लिए कार्य योजना बनाकर शीघ्र प्रस्तुत करें ताकि प्रभारी मंत्री की समीक्षा बैठक आयोजित करके कार्याें का अनुमोदन किया जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here