सक्ती। नगर और आसपास के क्षेत्रों में अब कोविड 19 संक्रमण अपने चरम पर पहुंचता जा रहा है। वैसे लोग तो शुरुवात में काफी सजग नजर आ रहे थे साथ ही शासन प्रशासन के दिशा निर्देशों का पालन कर रहे थे।
लेकिन जैसे ही कोरोना महामारी क्षेत्र में पैर पसारने लगा तो लोग भी अब थोड़े अलसी नजर आ रहे है। आम जनता अब कोरोना महामारी को लेकर सिर्फ किताबी जागरूकता दिखा रही है इसका उदाहरण यह है कि सक्ती, किरारी, और जाजंग में कोरोना संक्रमित बढ़ते जा रहे हैं। अगर सूत्रों की मानें तो नगर के अखराभांठा में कोई झोला छाप डॉक्टर है उसके कारण लगातार संक्रमण फैल रहा है। सूत्रों की मानें तो ग्राम पंचायत जाजंग में जो लगातार 20 कोरोना संक्रमित पाए गए हैं उनमें से एक मरीज का इलाज गांव के ही एक झोला छाप डॉक्टर ने किया था और वह झोलाछाप डॉक्टर लगातार गांव में सक्रिय रहा जिसके कारण दो दिनों में 20 पॉजिटिव मिलें है। ग्रामीण सूत्रों की मानें तो अभी और भी संक्रमितों के मिलने के आसार नजर आ रहे है। नगर के मामले में भी कुछ लोगों का कहना है कि जो कोरोना संक्रमण से कुछ मौतें हुई हैं उसमें से एक या दो मौत अखराभांठा के किसी झोला छाप डाक्टर से प्राथमिक इलाज के कारण ही हुई है। ऐसे में झोला छाप डॉक्टरों द्वारा लगातार संक्रमण को बढ़ावा देने के साथ साथ लोगों को दिग्भ्रमित भी किया जा रहा है, यही कारण है कि मौत और संक्रमण हो रहा है।