ग्राम खटिया पाटी के लोगों ने जंगल से भटकते हुए हिरण(चीतल) को फारेस्ट विभाग को सुरक्षित सौंपा

0
19

गांव के लोगों ने हिरण के प्रति दिखाई आत्मीयता, 3 घंटे तक रखा सुरक्षित

Advertisement

लोगों ने सूझबूझ दिखाते हुए कोठे में रखकर पुलिस व फारेस्ट विभाग को दिया सूचना

फारेस्ट विभाग के टीम ने मादा चीतल(हिरण) को सोन बरसा के जंगल में छोड़ा

के पी पटेल की रिपोर्ट

बलोदा बाज़ार – आज दिनांक 02.05.2020 को बलोदा बाज़ार जिले के ग्राम पंचायत खटियापाटी में प्रातः 6 बजे धन गांव के तरफ से एक मादा हिरण (चीतल) को गांव की ओर आते हुए देखा गया जो भागते भागते खटिया पाटी के नाला से होते हुए गांव पहुंचा कुत्तों के दौड़ाने पर खेत से होते हुए दया सागर पटेल के बाड़ी में पहुंचा जहां से छलांग लगाकर हिरण धनेश पटेल के यहां घुस गया। जिसकी जानकारी कु. भावना पटेल ने किसी जरूरी कार्य से भटगांव से आए पत्रकार अपने रिश्तेदार के पी पटेल को दिया। जिसे देखकर कहीं और भगने की आशंका में व घर के लोगों के सूझबूझ से उसे घर के कोठे में बंद कर दिया और अतिशीघ्र इसकी जानकारी सबसे पहले पुलिस अधीक्षक श्रीमान प्रशांत ठाकुर को दिया जहां से कंट्रोल रूम में कॉल करके नजदीकी फारेस्ट विभाग को दिया जहां से वन परिक्षेत्र अधिकारी गोविन्द सिंग सोनाखान (कसडोल) एवम् बलौदा बाज़ार वन परिक्षेत्र अधिकारी के निर्देश पर बलौदा बाज़ार फारेस्ट विभाग एवम् सोन बरसा फारेस्ट विभाग के टीम को खटिया पा टी रवाना किया गया।

धनेश पटेल यहां हिरण आने की खबर से देखने के लिए पूरे गांव के लोग आने लगे यहां तक धनगांव के लोग भी पहुंचने लगे। पहली बार गांव के लोगों ने इतने नजदीक से एक सुंदर हिरण को देखकर सभी खुश नजर आए।

फारेस्ट के टीम के आते तक उसे कोठे में ही सुरक्षित रखा गया जिसे ग्राम सरपंच प्रतिनिधि हीरा लाल ध्रुव ने उस हिरण को देखकर आश्चर्य ही गए और उसके सुरक्षा का निर्देश दिए।

1 घंटे के अंतराल में फारेस्ट एवम् पुलिस की टीम धनेश पटेल पिता सखाराम पटेल के यहां पहुंचे जहां गाय कोठे से सुरक्षित चीतल को जो लगभग 3 साल के मादा हिरण (चीतल) था उसका पंचनामा तैयार करके गांव के लोगों के समक्ष फारेस्ट विभाग के टीम द्वारा नजदीकी सोन बरसा के जंगल में सुरक्षित छोड़ा गया।

आज पत्रकार के पी पटेल और गांव के लोगों व सरपंच के सूझबूझ और धनेश पटेल के परिवार के हिरण के प्रति आत्मीयता और सहानुूति वाकाए में काबिलेतारिफ है जिसने जंगल के भटके हुए जीव जंतु को सुरक्षित एवम् सकुशल रखरकर और फारेस्ट विभाग को सौंपकर एक मिशाल कायम किया।

वर्शन/बाइट -1

खटिया पा टी गांव से एक पत्रकार के पी पटेल का कॉल आया जिसे कंट्रोल रूम की सूचित कर इसकी जानकारी फारेस्ट विभाग को दिया गया जहां से टीम रवाना किया गया।

प्रशांत ठाकुर
पुलिस अधीक्षक बलोदा बाज़ार

वर्शन -2
खटिया पाटी गांव में किसी के घर भटकते हुए हिरण आने की खबर पुलिस अधीक्षक के माध्यम से मिला है जहां से बलौदा बाज़ार फारेस्ट विभाग के टीम रवाना किया गया, हिरण को उसके घर से पंचनामा तैयार कर सुरक्षित हिरण को सोन बरसा जंगल में सकुशल छोड़ा गया है।

गोविन्द सिंह
वन परिक्षेत्र अधिकारी
सोनाखान(कसडोल)

वर्शन-3
वन परिक्षेत्र अधिकारी से सूचना मिलते ही फारेस्ट टीम को सूचना देकर गांव पहुंचा तो यहां एक लगभग 3 साल का मादा हिरण (चीतल) जो जंगल से भटकता हुआ गांव नाले से होकर इसके घर में पहुंचा है जिसे सुरक्षित कोठे में रखा गया था , पंचनामा तैयार कर गवाहों के समक्ष बलोदा बाज़ार फारेस्ट के गाड़ी से सोन बरसा के जंगल में सकुशल छोड़ा गया।

रजनीश वर्मा
वनरक्षक,बलोदा बाज़ार

वर्शन/बाइट -4
गांव के धनेश पटेल के यहां चीतल(हिरण) आने की सूचना मिलते ही उसके घर पहुंचा तो देखा गाय कोठे में भटके हुए एक सुंदर हिरण सुरक्षित रखा गया है जिसकी सूचना पत्रकार के माध्यम से पुलिस और फारेस्ट विभाग को दे दिया गया है और उसे फारेस्ट विभाग द्वारा पंचनामा तैयार करके यहां से सकुशल सोनबरसा के जंगल में छोड़ने के लिए ले गए हैं।

हीरा लाल ध्रुव
सरपंच प्रतिनिधि
ग्राम पंचायत खटिया पाटी

वर्शन/बाइट 5
मेरे यहां हिरण आने की खबर मेरे परिवार के लोगों ने दी , मै खेत से तुरंत घर आया और उनकी सुरक्षा का इंतजाम करके आसपास के लोगों को सूचना दिया जहां से फारेस्ट विभाग को सूचना मिलते ही मेरे यहां से सुरक्षित रखे हिरण(चीतल)को तुरंत पंचनामा तैयार करके सोनबरसा जंगल में छोड़ने के लिए ले गए।

धनेश पटेल
खटिया पाटी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here