दिलीप कुमार वैष्णव@आपकी आवाज
कोरबा छत्तीसगढ़- 27 नवंबर 2020/कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने तथा संक्रमित मरीजों को ठीक करने मुहैया कराये जा रहे विशेष स्वास्थ्य सुविधाओं के कारण जिले में कोरोना संक्रमित मरीज लगातार ठीक हो रहे हैं। कोरोना संक्रमितों के ठीक होने के कारण औसत रिकवरी रेट बढ़कर 88 प्रतिशत हो गया है। कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल के मार्गदर्शन में स्वास्थ्य विभाग सजगता और गंभीरता से कोरोना संक्रमण को रोकने और कोरोना संक्रमित मरीजों को ठीक करनेे में लगे हुए हैं जिसके कारण जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की स्वस्थ होने की दर बढ़ रही है। जिला प्रशासन द्वारा मुहैया कराई जा रही इलाज की बेहतर सुविधा, जांच की अच्छी व्यवस्था और मेडिकल सुविधाओं के कारण औसत रिकवरी रेट में बढ़ोत्तरी हो रही है। कोरबा जिले में अब तक 12 हजार 851 कोरोना संक्रमित मरीजों की पुष्टि हो चुकी है। जिनमें से तीन हजार 830 ग्रामीण क्षेत्र से और नौ हजार 021 मरीज शहरी क्षेत्र के हैं। जिले में कुल 11 हजार 391 मरीज कोरोना से पूरी तरह ठीक हो चुके हैं। वर्तमान में एक हजार 357 संक्रमित मरीजों की ईलाज कोविड अस्पतालों और होम आईसोलेशन में रखकर किया जा रहा है। अब तक जिले के 103 कोरोना संक्रमितों की मृत्यु हुई है जिनमें से अधिकांश जिले से बाहर के कोविड अस्पतालांे में ईलाज के लिये भर्ती थे। कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल के निर्देश पर कोरबा जिले में कोरोना संक्रमण की रोकथाम और कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज के लिये बेहतर सुविधाएं प्रदान की जा रही हैै।
स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार अब तक मिले पाॅजिटिव मरीजों और अस्पतालों में इलाज के बाद ठीक हुये मरीजों के हिसाब से पाली विकासखण्ड में रिकवरी रेट जिले मंे सबसे अधिक है। पाली में कोरोना संक्रमित मरीजों का औसत रिकवरी रेट 94 प्रतिशत है। पाली में अब तक 817 कोरोना संक्रमितों की पहचान हुई है जिनमें से 774 मरीज पूरी तरह ठीक हो चुके हैं तथा 39 सक्रिय मरीज है। पोड़ी-उपरोड़ा विकासखण्ड में अब तक 400 कोरोना संक्रमित मरीजों की पहचान हुई है जिनमें से अभी तक इलाज के बाद 384 मरीज स्वस्थ होकर अपने घर जा चुके हैं। पोड़ी-उपरोड़ा विकासखण्ड में 15 कोरोना संक्रमित मरीजों का ईलाज चल रहा है। कोरबा विकासखण्ड के ग्रामीण क्षेत्रों में अभी तक 855 कोरोना पाॅजिटिव मरीज मिले हैं जिनमें से 776 ठीक हो गये हैं तथा 72 सक्रिय मरीज हैं। कोरबा के शहरी क्षेत्रों में अब तक पांच हजार 971 कोरोना पाॅजिटिव मरीजों की पहचान हुई है जिनमें से पांच हजार 176 मरीज इलाज के बाद ठीक हो चुके हैं तथा 733 सक्रिय मरीज हैं। कटघोरा विकासखण्ड में मिले तीन हजार 648 कोरोना मरीजों में से अब तक एक हजार तीन हजार 221 मरीज इलाज के बाद स्वस्थ हो गये हैं तथा 402 मरीजों का ईलाज जारी है। विकासखण्ड करतला में एक हजार 160 कोरोना मरीजों की पहचान हुई है, जिनमें से एक हजार 060 मरीज ईलाज के बाद ठीक हो चुके हैं एवं 96 कोरोना मरीजों का ईलाज जारी है।
स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार जिले मंे कोरोना की जांच आरटीपीसीआर, रैपिड एंटीजन टेस्ट और ट्रु-नाॅट तीन पद्धतियों से की जा रही है। जिले में अभी तक कुल एक लाख 25 हजार 969 कोरोना जांच सैम्पल लिये जा चुके हैं जिनमें से एक लाख 12 हजार 211 सैम्पलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। केवल 12 हजार 851 सैम्पलों की रिपोर्ट पाॅजिटिव आई है तथा 261 सैम्पलों की रिपोर्ट आना बाकी है एवं 646 सैम्पल विभिन्न तकनीकी कारणों से रिजेक्ट हुए हैं। अभी तक आरटीपीसीआर पद्धति से जांच के लिये जिले से कुल 43 हजार 291 सैम्पल प्रयोगशालाओं में भेजे जा चुके हैं जिनमें से चार हजार 101 सैम्पल की रिपोर्ट पाॅजिटिव आई है तथा 38 हजार 461 सैम्पलांे की जांच रिपोर्ट नेगेटिव आई है। भेजे गये सैम्पल में से 261 सैम्पलों की रिपोर्ट आनी बाकी है तथा 468 सैम्पल तकनीकी कारणों से रिजेक्ट हुए हैं। जिले से अब तक रैपिड एंटीजन विधि से जांच करने के लिये 78 हजार 003 सैम्पल लिये जा चुके हंै। 69 हजार 503 की जांच नेगेटिव और आठ हजार 341 सैम्पलों की जांच पाॅजिटिव आई है तथा 132 सैम्पल तकनीकी कारणों से रिजेक्ट हुए हैं। ट्रु-नाॅट पद्धति से जिला अस्पताल में अभी तक चार हजार 675 सैम्पल लिये जा चुके हैं। इनमें से चार हजार 220 कोरोना नेगेटिव और केवल 409 कोरोना पाॅजिटिव मिले हैं तथा 046 सैम्पल रिजेक्ट हुए हैं।