जिले में 16255 हैण्डपंप से पेयजल की जा रही आपूर्ति, खराब 1510 हैण्डपंपो का किया गया मरम्मत

0
11

विकासखंड बगीचा के अम्बापकरी के लोगों ने पेयजल का घर पहुंच सुविधा उपलब्ध कराने के लिए जिला प्रशासन को दिया धन्यवाद…. पेयजल की आपूर्ति के लिए नवीन हैण्डपंप की स्थापना एवं खराब हैण्डपंप का किया गया मरम्मत… जिले में 101 नल जल योेजना एवं 485 सोलर ड्यूल पंप के माध्यम से कराया जा रहा है पेयजल उपलब्ध

जशपुरनगर 31 मई 2020/ ग्रीष्मकाल में लोगों को सुगमता पूर्वक पेयजल उपलब्ध कराने के लिए लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा लगातार हैंडपंपो की मरम्मत और नये हैंडपंप स्थापित किए जा रहे है। कलेक्टर श्री महादेव कावरे ने लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के अधिकारियों को हेण्डपम्प सुधारने तथा जहां जल स्तर कम है वहां अतिरिक्त पाईप लगाने के साथ ही पेयजल समस्या वाले बसाहटों में नये नलकूप खनन एवं हेण्डपम्प स्थापित कर लोगों को पेयजल उपलब्ध कराने के निर्देश दिये है। ग्रीष्म ऋतु में ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को पेयजल की समस्या के समाधान के लिए जिले में विभिन्न योजनाओं का संचालन किया जा रहा है। जिनमें नवीन हैण्डपंप स्थापना, नलजल योजना एवं सोलर ड्यूल पंप इत्यादि षामिल है। कार्यपालन अभियंता लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी जशपुर ने बताया कि जिले में कुल 16 हजार 255 हैण्डपम्प के माध्यम से ग्रामीण लोगों को पेेेयजल प्रदान किया जा रहा है।
 जशपुर के  ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को पाईप के द्वारा सीधे उनके घरों में पेयजल प्रदान किये जाने के उद्देश्य से जिले में 101 नलजल योजना का संचालन किया जा रहा हैै जिससे उन्हें पेयजल का घर पहुंच सुविधा मिल सके। कुछ ऐसा ही कहना है जिले के बगीचा विकासखंड के ग्राम अम्बापकरी के लोगों का, जहां के लोग घरेलू एवं मवेषियो के उपयोग हेतु जल के लिए अपने घर से दूर स्थापित हैण्डपंप एवं कुआॅं पर आश्रित थे। इन हैण्डपंप एवं कुॅंआ से पानी अपने घर तक ले जाने में ग्रामीण महिलाओं को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता था। बरसात के दिनों में भीगते हुए उन्हें पेयजल लेने के लिए हैण्डपंप तक आना पड़ता था। अब ग्राम अम्बापकरी में विभाग द्वारा नलजल योजना के अंतर्गत टंकी निर्माण कर लोगों के घर-घर में पाईप के माध्यम से पेयजल पहुंचने की सुविधा उपलब्ध किया गया है। जिससे ग्रामीणों को पेयजल उनके घर पर ही मिल रहा है। इस सुविधा से ग्रामीणों को घर से दूर स्थित हैण्डपंप एवं कुॅंआ से पानी ढोने की समस्या से छूटकारा मिला है। ग्राम अम्बापकरी के लोगों ने जिला प्रषासन को इसके लिए धन्यवाद देते हुए अपना आभार व्यक्त किया है।
इसके साथ ही जिले के दूरस्थ ग्रामीण वनांचल क्षेत्रो में जहाॅं बिजली की आपूर्ति पर्याप्त नहीं है वहाॅं नल के माध्यम से पेयजल की आपूर्ति की जा रही है। जहाॅं सूरज की रौशनी से चलने वाले सोलर ड्यूल पंप की स्थापना किया गया है जिससे इन क्षेत्रों में रहने वाले लोगो को पेयजल से संबंधित समस्या न हो। वर्तमान में जिले में कुल 485 सोलर ड्यूल पंप स्थापित है।
लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा ग्रीष्म ऋतु में ग्रामीण क्षेत्रो में पेयजल से संबंधित मांग एवं शिकायतों के त्वरित निरकारण के लिए जिला, उपखंड एवं विकासखंड मुख्यालय स्तर पर कंटोल रूम का गठन किया गया है। जिनमें संबंधित क्षेत्र के उप अभियंता अथवा सहायक अभियंता को कंट्रोल रूम का प्रभारी अधिकारी बनाया गया है। कंटोल रूम के माध्यम से हैण्डपंपों के खराब होने अथवा जल स्तर कम होने पर पेयजल समस्या की सूचना प्राप्त होते ही विभाग द्वारा त्वरित कार्यवाही कर बिगड़े हैण्डपंपों का संधारण किया जा रहा है। इसी के अंतर्गत विभाग द्वारा सुधार योग्य बिगड़े हैण्डपम्पों की मरम्मत के लिए विशेष अभियान चलाकर जिले के 1510 खराब हैण्डपम्पों का सुधार किया गया है।
राज्य सरकार एवं जिला प्रषासन के निर्देषानुसार कोरोना वायरस महामारी के नियंत्रण एवं बचाव के लिए जिले के समस्त जल स्त्रोतो के जल का षुद्धिकरण किया जा रहा है। इसके अंतर्गत जिले के समस्त हैण्डपंप, नलजल योजना के तहत निर्माण किये गए टंकी, एवं उच्च स्तरीय जलागार के अतिरिक्त पेयजल के लिए प्रयोग में आने वाले जल स्त्रोतो में क्लोरिनेषन का कार्य किया जा रहा है जिससे लोगों को कोरोना के संक्रमण से बचाया जा सके।

PAPPU SONI
Latest posts by PAPPU SONI (see all)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here