शराबबंदी की मांग करने वाले भाजपा नेताओ ने 15 वर्षो तक प्रदेश में बहाई थी शराब की नदिया

बिलासपुर| प्रदेशभर में लॉकडाउन के दौरान शराब दुकानों को खोले जाने के खिलाफ व पूर्ण शराब बंदी की मांग करते हुए भाजपा के नेता व कार्यकर्ता अपने-अपने घरो में विरोध प्रदर्शन किया, भाजपा के धरना प्रदर्शन को ढकोसला करार देते हुए प्रदेश कांग्रेस कमेंटी के उपाध्यक्ष प्रेमचंद जायसी ने तीखा प्रहार करते हुए कहा कि पूर्ववर्ती भाजपा सरकार के 15 सालो के कार्यकाल के दौरान पुरे प्रदेशभर में शराब की नदियाँ बहाई गयी थी जिसे भूलाकर आज भाजपा शराबबंदी का राग आलाप रही है| मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार ने स्पष्ट कर दिया है शराबबंदी नोटबंदी की तरह नहीं होगी पुख्ता और मजबूत नीति के साथ राज्य में शराबबंदी होगी।

प्रदेश कांग्रेस कमेंटी के उपाध्यक्ष प्रेमचंद जायसी ने कहा कि मोदी सरकार ने लॉक डाउन 3.0 के दौरान देशभर में शराब पान गुटखा बेचने की अनुमति प्रदान कर कोरोना महामारी रोकने खींची गई लॉक डाऊन की लक्ष्मण रेखा को तोड़ने का काम किया है। भाजपाशासित राज्यों में लॉक डाउन के दौरान खुली शराब दुकानों में भारी भीड़ एवं बेतहाशा शराब की बिक्री की सूचना समाचार पत्रों के माध्यम से मिल रही है। उत्तर प्रदेश मध्य प्रदेश सहित भाजपा शासित प्रदेश में एक दिन में 100 से लेकर 300 करोड़ की शराब की बिक्री हुई है।मध्यप्रदेश में तो शराब के ठेकेदारों ने कोरोना वायरस के खतरा के कारण शराब दुकान खोलने से इनकार कर दिया लेकिन शराब की कमीशनखोरी और शराबलॉबी के दबाव में मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार ने दबाव डालकर शराब ठेका खोलने मजबूर किया। उत्तर प्रदेश में शराब दुकान खोलने को उच्चअधिकारी द्वारा मानव जीवन के लिए खतर बताये जाने पर योगी सरकार ने दबाव डालकर उच्चअधिकारी से माफी मंगवाया सोशल मीडिया में उसके पोस्ट को हटावाया। इससे स्पष्ट हो जाता है केंद्र की मोदी सरकार ने भाजपा शासित राज्यों में शराब से राजस्व प्राप्त करने लॉकडाउन 3.0के दौरान शराब बेचने की अनुमति प्रदान किया हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार ने स्पष्ट कर दिया है शराबबंदी नोटबंदी की तरह नहीं होगी पुख्ता और मजबूत नीति के साथ राज्य में शराबबंदी होगी।