नई दिल्ली। 23 जनवरी को आजाद हिंद फौज के संस्थापक नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125 वीं जयंती है। सरकार ने नेताजी के जन्मदिवस को पराक्रम दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया है। इस अवसर पर भारत सरकार 125 रुपये मूल्य का सिक्का भी जारी करेगी।

कैसे होंगे सिक्के के दोनों पहलू
नेताजी की 125वीं जयंती पर जारी होने वाले 125 रुपये के सिक्के के मुख भाग के बीच में अशोक स्तंभ होगा। अशोक स्तंभ के नीचे सत्यमेव जयते बाई परिधि पर देवनागरी में भारत और दाई परिधी पर अंग्रेजी में “INDIA” अंकित होगा। अशोक स्तम्भ के ठीक नीचे रुपये के प्रतीक चिह्न के साथ अंकों में सिक्के का मूल्य 125 लिखा होगा।

सिक्के के पिछले हिस्से में नेताजी का चित्र होगा। इसके ठीक ऊपर हिन्दी में लिखा होगा नेताजी सुभाष चंद्र बोस का 125 वां जयंती वर्ष। निचले हिस्से में अंग्रेजी में लिखा होगा “125TH BIRTH ANNIVERSARY YEAR OF NETAJI SUBHAS CHANDRA BOSE” । नीचे जारी करने का साल 2021 अंकित होगा।

चार धातुओं से मिलकर बना है ये सिक्का
125 रुपये का यह सिक्का 4 धातुओं को मिलाकर बनाया गया है। इसमें आधी यानी 50 फीसदी चांदी, 40 फीसदी तांबा, 5-5 फीसदी निकिल और जस्ता मिलाया गया है। इस सिक्के का वजन 35 ग्राम है। यह सिक्का आकृति में गोल होगा और इसका व्यास 44 मिलीमीटर का होगा। सिक्के के किनारों पर 200 धारियां होंगी।

पहले भी जारी हो चुके हैं सिक्के
इससे पहले सरकार ‘सांख्यिकी दिवस’ पर प्रशांत चंद्र महालनोबिस के जन्मदिवस पर 125 रुपये का सिक्का जारी कर चुकी है। पिछले साल सितंबर में 18वीं सदी के विश्व विख्यात योग साधक श्यामाचरण लाहिड़ी की 125वीं पुण्यतिथि के अवसर पर भारत सरकार 125 रुपये का स्मारक सिक्का जारी किया था।