आज मुख्यमंत्रियों के साथ पीएम मोदी की अहम बैठक, कोरोना के खिलाफ आगे की रणनीति पर होगी चर्चा

0
9
**EDS: VIDEO GRAB** New Delhi: Prime Minister Narendra Modi wearing a protective mask chairs a meeting with chief ministers on COVID-19 lockdown via video conference, in New Delhi, Saturday, April 11, 2020. (PTI Photo) (PTI11-04-2020_000045B)

नई दिल्ली: क्या 17 मई के बाद लॉकडाउन खत्म हो जाएगा. इस सवाल का जवाब हर कोई जानना चाहता है. ऐसे में सबकी नजरें आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की होने वाली अहम बैठक पर है. कोरोना के खिलाफ देश की तैयारी और आगे की रणनीति पर चर्चा के लिए आज प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्रियों से बात करने वाले हैं. ये बैठक दोपहर 3 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होगी.

पीएम की बैठक में इन मुद्दों पर हो सकती है बात

कोरोना काल में मुख्यमंत्रियों के साथ पीएम की यह पांचवीं बैठक होगी. आज जब प्रधानमंत्री सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से मिलेंगे तो लॉकडाउन से हुए फायदे और आगे की रणनीति पर चर्चा हो सकती है. कोरोना काल में अब तक प्रधानमंत्री 20 मार्च, 2 अप्रैल, 11 अप्रैल और 27 अप्रैल को मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक कर चुके हैं. प्रधानमंत्री की आज की बैठक इसलिए भी अहम है क्योंकि लॉकडाउन को लेकर पीएम ने जब भी कोई बड़ा फैसला लिया तो उससे पहले राज्यों की राय जरूर ली है.

* 20 मार्च की बैठक के बाद प्रधानमंत्री ने 24 मार्च को राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन का एलान किया था

* 2 अप्रैल की बैठक में अचानक लॉकडाउन नहीं हटाने पर सहमति बनी थी

* 11 अप्रैल की बैठक के बाद प्रधानमंत्री ने 14 अप्रैल को लॉकडाउन 3 मई तक बढ़ाने का एलान किया था

* 27 अप्रैल की बैठक के बाद 1 मई को लॉकडाउन के तीसरे चरण का फैसला लिया गया

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में देश को इस वक्त तीन जोन में बांटा गया है. देश में में इस वक्त 130 रेड जोन हैं, 284 ऑरेंज जोन और 319 ग्रीन जोन हैं. बैठक में लॉकडाउन खोलने के बाद के हालात और जोन को लेकर बनाए नियमों पर भी बात हो सकती है. जानकारी के मुताबिक…

राज्यों को आपत्ति क्या है?

* कई राज्यों ने रेड, ग्रीन और ऑरेंज जोन को लेकर बनाए नियमों पर आपत्ति जताई है
* राज्यों का कहना है कि प्रवासी मजदूरों की वापसी से कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं
* ऐसे में अधिकांश जिले रेड जोन में आ जाएंगे जिससे छूट पर असर पड़ेगा

ऐसी जानकारी मिली है कि आज सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों को बोलने का मौका मिलेगा और ये अब तक कि सबसे लंबी बैठक होगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here