बूढ़ा तालाब सौंदर्यीकरण का विरोध, भाजपा द्वारा प्रायोजित है- महापौर, सप्रे शाला मैदान पर 2 तो दानी स्कूल मैदान पर 6 करोड़ खर्च कर किया जाएगा कायाकल्प

0
7

रायपुर। बूढ़ा तालाब के सौंदर्यीकरण को लेकर हो रहे विवाद और वहां निगम द्वारा कार्मिशियल उपयोग करने की बात सामने आने के बाद नगर निगम महापौर एजाज ढेबर व सभापति प्रमोद दुबे सोमवार को सामने आए। दोनों नेे निगम कमिश्रर की उपस्थिति में साझा प्रेस कांफ्रेस कर बूढ़ा तालाब को लेकर जानकारी दी। इस विरोध के लिए महापौर ने भाजपा को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि यह उन्हीं लोगों का प्रायोजित विरोध है। साथ ही यह भी कहा कि निगम द्वारा बूढ़ा तालाब में किसी भी तरह का कार्मिशियल उपयोग नहीं किया जाएगा। मेयर ढेबर ने बूढ़ा तालाब को शहर की लाइफ लाइन बताते हुए कहा कि यह तालाब पिछले 25 सालों सेेे अपनी कायाकल्य केे लिए तरस रहा है। कई कमिश्रर, महापौर समेत अन्य लोग आये और गए, लेकिन किसी ने इस प्राचीन तालाब पर ध्यान नहीं दिया। जबकि यह लोगों के आस्था का भी केंद्र बिंदु है। उन्होंने कहा कि हमने शहर के सभी तालाबों का संकल्प लिया और इसकी शुरूआत बूढ़ा तालाब से की और आज तय समय में निगम के सफाई कर्मचारियों, अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों के सहयोग से सफाई करवाया, लेकिन अब इसको लेकर विवाद उतपन्न हो रहा है। यह विवाद भाजपा का प्रायोजित है। मैं भी एक खिलाड़ी हंू, कई खेलों में नेशनल खेला है। मैं मीडिया के माध्यम से बताना चाहता हूं कि निगम का न फूड पार्क और न ही चौपाटी बनाने का कोई प्लान है। कुछ लोगों द्वारा अफवाह उड़ाई जा रही है कि यहां निगम द्वारा कर्मिशियल उपयोग किया जाएगा जो सरासर गलत है। उन्होंने हाथ जोड़कर अनुरोध किया कि बूढ़ा तालाब 25 साल से अपनी सुंदरता को लेकर तरस रहा है। इसे पूरा होने दें। कटोरा तालाब और तेलीबांधा तालाब का सौंदर्यीकरण होने के बाद यहां लोगों का आना जाना बढ़ा है। बूढ़ा तालाब का सौंदर्यीकरण होने के बाद यहां भी लोग पहुंचेंगे। इसे ध्यान में रखते हुए निगम द्वारा पब्लिक की सुविधा के लिए पार्किंग समेत अन्य व्यवस्था करने की बात कही।
इन दो जगहों पर 8 करोड़ रुपए खर्च करने का प्लान: महापौर ने शहर के
दानी स्कूल व सप्रे शाला मैदान में भी कर्मिशियल उपयोग करने को लेकर उपजे विवाद पर अपना पक्ष रखते हुए मीडिया के सामने ग्राउंड का नक्शा दिखाया और बताया कि निगम द्वारा अभी खेल मैदान के डेड एरिया को ही लेने की बात कही। उन्होंने यह भी बताया कि सप्रे शाला मैदान पर 2 करोड़ खर्च कर इंटरनेशनल मैदान बनाना चाहते हैं। वहीं दानी स्कूल का भी 6 करोड़ खर्च कर कायाकल्प किया जाएगा। इन दोनों जगहों में भी किसी भी तरह का कोई भी कर्मिशिलय एक्टिविटी नहीं होने का दावा किया।
निगम आयुक्त ने बताया बूढ़ा तालाब का ब्लू प्रिंट: निगम आयुक्त सौरभ कुमार ने बूढ़ा तालाब का ब्लू प्रिंट बताया। वहीं स्कूलों को लेकर वर्कऑर्डर और टेंडर सभी तैयारियां पहले ही विधिवत पूरी होने की बात कही। उन्होंने सप्रे स्कूल के ग्राउंड में कोई दुकान, कॉम्लेक्स या बिल्डिंग नहीं बनने का भी दावा किया और वहां का फुटबॉल ग्राउंड वैसा का वैसा ही रहेगा ताकि खिलाडिय़ों को किसी भी तरह का कोई असुविधा न हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here