मुंबईः  वेब सीरीज तांडव को लेकर जारी विवाद में अब शिवसेना भी कूद गई है. शिवसेना ने इस वेब सीरीज को लेकर बीजेपी पर हमला बोला है और सामना के संपादकीय में खिल्ली उड़ाई है. शिवसेना ने कहा है कि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) अब हास्य-व्यंग्य का विषय बन गई है. शिवसेना ने कहा है कि पार्टी रोज नए स्वांग-ढोंग रचकर जनता का मनोरंजन करने का प्रयास करती है लेकिन उनके प्रपंची जनता को पसंद नहीं आते.

एमएफ हुसैन का हवाला देते हुए शिवसेना ने कहा कि हिंदू देवी-देवताओं के संदर्भ में किसी भी प्रकार के अपमानजनक संवाद शिवसेना ने कभी भी बर्दाश्त नहीं किए हैं. बता दें कि एम एफ हुसैन महान चित्रकार थे, लेकिन उन्होंने हिंदू देवताओं के चित्र जिस तरह से बनाए, उस पर शिवसेना ने आपत्ति जताई थी. विवाद इतना बढ़ा कि एमएफ हुसैन को देश छोड़कर जाना पड़ा था.

शिवसेना ने कहा है, ”तांडव नाम की एक वेब सीरीज हाल ही में प्रदर्शित हुई है. कहा जाता है कि यह सीरीज मौजूदा राजनीति की वास्तविकता पर आधारित है. दिल्ली की राजनीति, यूनिवर्सिटी में सियासी खींचतान, इस तरह के कुछ विषय इसमें दिखाए गए हैं. इस बीच इस सीरीज में हिंदू देवी-देवताओं के संदर्भ में कुछ आपत्तिजनक संवाद होने का हो-हल्ला बीजेपी ने मचाया है. भगवान शंकर और नारद के संवाद में श्रीराम का उल्लेख उपहासात्मक तरीके से किए जाने का ‘तांडव’ बीजेपी ने शुरू किया.”

शिवसेना ने कहा है कि बीजेपी ने जो ‘तांडव’ शुरू किया है, उसमें प्रामाणिकता का अंश कितना है, उस पर संदेह है. सामना ने लिखा है कि जो ‘तांडव’ के विरोध में खड़ी है, वही बीजेपी भारत माता का अपमान करनेवाले उस अर्णब गोस्वामी के संबंध में मुंह में उंगली दबाकर चुप क्यों बैठी है?