श्रीनगर: आखिरकार पांच वर्षों का इंतजार समाप्त हुआ और बनिहाल-काजीगुंड सुरंग वाहनों की आवाजाही के लिए बनकर तैयार हो गई. जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर स्थित इस सुरंग पर टेस्टिंग का कार्य जारी है, जिससे कमीशनिंग की प्रक्रिया को पूरा किया जा सके. यह सुरंग केंद्र शासित प्रदेश की इकॉनमी के लिए भी गेम-चेंजर साबित होगी.

दरअसल, 2,100 करोड़ रुपये की लागत से तैयार की गई इस सुरंग के बनने से जम्मू और श्रीनगर के बीच सड़क मार्ग की दूरी 25 किमी कम हो जाएगी. अभी दोनों शहरों के बीच जितना समय लगता है, सुरंग के ऑपरेशनल होने के बाद उसमें डेढ़ घंटा कम लगेगा. जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग की लंबाई 270 किमी है. सुरंग के निर्माण से संबंधित कंपनी के अधिकारियों ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि 8.5 किलोमीटर लंबी ये सुरंग अगले कुछ सप्ताह में ऑपरेशनल हो जाएगी. इस सुरंग को पूरा होने में पांच वर्ष लगे हैं. सुरंग का एक छोर काजीगुंड में और दूसरा बनिहाल में खुलता है. इससे स्थानीय लोगों को भी आवागमन में वक़्त और पैसे की बचत होगी.

संभावना जताई जा रही है कि अगले माह पीएम मोदी इस सुरंग का उद्घाटन कर सकते हैं. जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग का नियमित इस्तेमाल करने वाले ट्रक चालक रियाज अहमद ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि सुरंग के ऑपरेशनल होने के बाद ड्राइविंग पहले से आसान और सुरक्षित हो जाएगी. अभी तक इस हिस्से में सीधी चढ़ाई वाले और घुमावदार रास्तों से होकर जाना पड़ता था. सर्दियों में ज्यादातर सड़कें फिसलन की वजह से ब्लॉक हो जाती है, किन्तु अब नई सुरंग बनने के बाद ऐसी दिक्कतों में कमी आएगी.